शीतलहर की चपेट में एमपी, पचमढ़ी में पारा लुढ़ककर 2 डिग्री सेल्सियस तक पहुंचा
joomla social media module

ई-मॅगज़ीन/E-Magazine

3 जनवरी 2018, भोपाल: मध्यप्रदेश में शीतलहर से जनजीवन प्रभावित हो रहा है. दिन और रात के तापमान में गिरावट का दौर शुरू हो गया है. इसी क्रम में मंगलवार-बुधवार की दरमियानी रात को पचमढ़ी में पारा लुढ़ककर 2 डिग्रीसे. पर पहुंच गया, साथ ही अन्य जिलों में मंगलवार रात न्यूनतम तापमान 4.8 डिग्री पर पहुंच गया. इधर, देवास में 2 जनवरी को न्यूनतम तापमान 14.8 डिग्री दर्ज किया गया था, 3 जनवरी को 11.8 डिग्री सेल्सियस पर आ गया. अधिकतम तापमान में भी गिरावट दर्ज की गई. कई स्थानों पर फसलों पर ओस की बूंदें जम गईं.

मौसम की सबसे सर्द रात

इंदौर में रात का पारा 8 डिग्री सेल्सियस पर आ गया. यह इस मौसम का सबसे कम तापमान है. दिन में भी हवा में चुभन महसूस हो रही है. दो दिन से उत्तर-पूर्वी हवाएं जोरों पर है. उत्तरी इलाकों में हो रही बर्फबारी के कारण पूर्वी क्षेत्रों में भी सर्दी बढ़ गई है. दो दिन से शहर सर्दी से ठिठुर रहा है. सुबह करीब 10 बजे हवा की रफ्तार भी 16 किलोमीटर प्रतिघंटा तक पहुंच गई. दिनभर भी सामान्य से तेज हवा चलती रही.

दिन में सूरज की मौजूदगी के बावजूद सर्दी महसूस हो रही थी. दिनभर लोग स्वेटर, शॉल पहने नजर आए. शाम होने तक सर्दी और बढ़ गई. दिन का तापमान सामान्य से 2 डिग्री कम 23.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ जबकि न्यूनतम तापमान सामान्य से 1 ज्यादा 8 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड हुआ.

न्यूनतम तापमान इस मौसम में पहली बार इतना कम दर्ज हुआ है. इसके पहले 27 दिसंबर को 8.8 डिग्री सेल्सियस और 26 दिसंबर को 9.2 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड हुआ था. मौसमविदों के अनुसार जनवरी के पहले सप्ताह में न्यूनतम तापमान 7 डिग्री सेल्सियस तक भी पहुंच जाता है.

 

रायसेन में शीतलहर की स्थिति रही. उधर भोपाल में न्यूनतम तापमान 7.7 डिग्रीसे. दर्ज हुआ, जो कि सामान्य से 2 डिग्रीसे.कम रहा. साथ ही इस सीजन का सबसे कम तापमान भी रहा. बुधवार को दिन का अधिकतम तापमान 22.6 डिग्रीसे. दर्ज हुआ. जो कि सामान्य से 2 डिग्रीसे.कम है. मौसम विज्ञान केंद्र के मुताबिक अभी एक-दो दिन इस तरह की स्थिति बनी रहने के आसार हैं.