अमेरिका में बर्फीले तूफान का कहर, 11 लोगों की मौत
joomla social media module

ई-मॅगज़ीन/E-Magazine

Jan 5th, 2018

अमेरिका में कड़ाके की ठंड पड़ रही है. बर्फबारी से अब तक कई लोगों की मौत हो चुकी है. ठंड से हालात इतने बदतर हो गए हैं कि कुछ राज्यों में इमरजेंसी डिक्लेअर कर दी गई है. वहीं, अमेरिका की नेशनल वेदर स‌र्विस ने यह कहा है कि ईस्ट कोस्ट के कुछ हिस्सों में टेम्परेचर मंगल ग्रह (मार्स) से भी कम हो सकता है. 

दरअसल, 133 साल बाद अमेरिका में इतनी ठंड पड़ रही है. ऐसा कहा जा रहा है कि यह हालात बॉम्ब साइक्लोन के कारण बने हैं. इस साइक्लोन के कारण अमेरिका के कई हिस्सों में तापमान 0 डिग्री सेल्सियस से नीचे चला गया है. जॉर्जिया और कैलिफोर्निया में तो हालत यह हैं कि झीलें और फाउंटेन बर्फ में तब्दील हो गए हैं. अब तक सबसे ज्यादा बर्फबारी उत्तरी तट से लगे जॉर्जिया और नॉर्थ कैरोलिना में हो रही है.

यह साइक्लोन न्यू इंग्लैंड की तरफ बढ़ रहा है. यहां 6 से 12 इंच तक बर्फबारी होने के आसार हैं. नियाग्रा फॉल समेत कई झीलें भी जम चुकी हैं. वहीं, टेक्सास से कनाडा तक लोग सर्द हवा से परेशान हैं. न्यू हैंपशायर की माउंट वॉशिंगटन ऑब्जरवेट्री के साइंटिस्ट टेलर रीगन ने सीएनएन से कहा कि इस हफ्ते के आखिर में नॉर्थ-ईस्ट अमेरिका के कुछ हिस्सों का तापमान मंगल ग्रह से भी कम हो सकता है. यानी कि धरती का एक हिस्सा पहली बार मार्स से भी ठंडा होगा. इन हिस्सों में तापमान -35 डिग्री से भी कम हो सकता है.

एक मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, बर्फीले तूफान की आशंका के चलते गुरुवार को अमेरिका में 2700 फ्लाइट्स कैंसल की गई हैं. सरकार ने एडवाइजरी जारी करते हुए कहा कि लोगों को घर में रहने के लिए कहा है. खबर तो यह भी है कि फ्लोरिडा का वॉटर पार्क भी जम चुका है.

 

बॉम्ब साइक्लोन का असर सिर्फ अमेरिका में ही नहीं, बल्कि ब्रिटेन के पश्चिमी हिस्से और आयरलैंड में भी पड़ रहा है. ब्रिटेन के मौसम विभाग ने भी बर्फीला तूफान आने की आशंका जाहिर की है.