ईसाइयों पर हमलों की वजह पाकिस्तान में?
joomla social media module

ई-मॅगज़ीन/E-Magazine

लाहौर के एक पार्क में तालिबान का आत्मघाती धमाका पाकिस्तान में ईसाइयों पर हो रहे हमलों के सिलसिले की एक और कड़ी है.

इन हमलों में से कुछ को पाकिस्तान के विवादित ईशनिंदा क़ानून से जोड़कर देखा जाता रहा है जबकि कई हमलों के मक़सद राजनीतिक लगते हैं.

मुस्लिम बहुसंख्यक देश पाकिस्तान में हिंदुओं के बाद ईसाई दूसरा सबसे बड़ा अल्पसंख्यक समूह हैं. पाकिस्तान में लगभग 18 करोड़ की आबादी में 1.6 प्रतिशत ईसाई हैं.

 

हाल के सालों में ईसाइयों को निशाना बनाकर कई बड़े हमले किए गए हैं.

जानकारों का कहना है कि ईसाइयों के ख़िलाफ़ ज़्यादातर आरोप व्यक्तिगत नफ़रत और विवादों से प्रेरित थे.

2012 में पाकिस्तान की एक ईसाई स्कूली छात्रा रिम्शा मसीह पहली ग़ैर मुसलमान बनीं थी जिसे ईशनिंदा के आरोपों से बरी किया गया था.

बाद में पता चला था कि एक स्थानीय मौलवी ने उसे ग़लत तरीक़े से ईशनिंदा के आरोपों में फंसाया था.

लेकिन सबसे चर्चित उदाहरण आयशा बीबी का है जिन्हें 2010 में कुछ मुस्लिम महिलाओं से बहस करने के बाद ईशनिंदा के आरोपों में फंसा दिया गया था.

पंजाब के तत्कालीन गवर्नर सलमान तासीर की उनके बॉडीगार्ड मुमताज़ क़ादरी ने हत्या कर दी थी. तासीर ने कहा था कि आयशा बीबी के मामले में ईशनिंदा क़ानून का दुरुपयोग किया गया है.

क़ादरी को पिछले महीने ही फांसी दी गई है.

पाकिस्तान के अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री और ईसाई नेता शाहबाज़ भट्टी की तालिबान ने ईशनिंदा क़ानून का विरोध करने पर 2011 में हत्या कर दी थी.

 

हमलों की वजह

कुछ हमले अफ़ग़ानिस्तान में अमरीकी नेतृत्व में चले युद्ध के नतीजे में भी हुए हैं और इनके मक़सद राजनीतिक रहे हैं.

2011 में अमरीकी नेतृत्व के गठबंधन के अफ़ग़ानिस्तान पर हमलों के बाद तक्षिला में ईसाई मिशन अस्पताल पर हुए ग्रेनेड हमले में चार लोग मारे गए थे.

कुछ ही महीनों बाद एक ईसाई संस्था के छह सदस्यों की कराची के उनके दफ़्तर में हत्या कर दी गई थी.

पाकिस्तान की ईसाई और हिंदू अल्पसंख्यक आबादी पर हमले चरमपंथी समूहों की पश्चिमी देशों को संदेश देने की रणनीति का हिस्सा हो सकते हैं.

या फिर ये पाकिस्तानी प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ़ को ऐसे वक़्त में अपमानित करने की कोशिश भी हो सकती है जब वो पश्चिमी देशों के क़रीब जाते प्रतीत हो रहे हैं.